logo

बोल्डर की चपेट में आने से एक व्यक्ति की हुई मौत, 2010 की आपदा में खोया था इकलौते पुत्र को

खबर शेयर करें -
  • मवेशियों के लिए चारा काटने गया था जंगल

बागेश्वर बोल्डर की चपेट में आने से एक व्यक्ति की मौत हो गई है। मृतक ने 2010 में आई आपदा में इकलौते पुत्र को भी खोया था। घटना के बाद कपकोट क्षेत्र में शोक की लहर दौड़ गई है। पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम कर स्वजनों को सौंप दिया है।

कपकोट के गांवों में वर्षा का दौर लगातार जारी है। रविवार को कपकोट के बड़ेत गांव के 50 वर्षीय दयाल पाठक पुत्र उर्बा दत्त पाठक घास काट रहे थे। उस वक्त भारी बारिश भी हो रही थी। बड़ेत मोटर मार्ग की कटिंग का मलबा और बोल्डर गिरने लगा। जिसकी चपेट में आने से वह खाई में गिर गए। परिजनों ने पुलिस को सूचना दी। और उन्हे खाई से बाहर निकाला गया और अस्पताल ले जाया गया जहां चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

यह भी पढ़ें 👉  आपदा मद में ₹13 करोड़ की दूसरी किश्त जारी, जिलाधिकारियों को पुलियाओं, पेयजल लाइनों, सिंचाई नहरों की मरम्मत के निर्देश

बता दे की मृतक दिल्ली में नौकरी करते थे। वह बीते चार दिन पूर्व ही घर आए थे। उन्होंने 2010 में आई आपदा में अपना इकलौता पुत्र करन पाठक को भी खोया था। 18 अगस्त 2010 में सरस्वती शिशु मंदिर सुमगढ़ के पीछे भूस्खलन हुआ था। जिसमें उनके पुत्र सहित 18 मासूम जिंदा दफन हो गए थे। मृतक की तीन पुत्रियां हैं। 24 वर्षीय रेखा और 20 वर्ष की गीता हैदराबाद में जेएनएम की पढ़ाई कर रही है। 22 वर्षीय रेनू और उनकी पत्नी चंद्रा पाठक घटना के बाद अनाथ हो गए हैं। विधालय सुरेश गड़िया, पूर्व विधायक ललित फर्सवाण, ग्राम प्रधान भूपेश ऐठानी, पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष हरीश ऐठानी, भावना कोरंगा, प्रहलाद कपकोटी, हरीश पाठक आदि ने घटना पर गहरा शोक व्यक्त किया है। वही थानाध्यक्ष कपकोट कैलाश सिंह बिष्ट ने कहा कि शव पोस्टमार्टम के बाद स्वजनों को सौंप दिया है। घटना की सभी कोणों से जांच की जा रही है।

यह भी पढ़ें 👉  संक्रामक रोगों की रोकथाम को लेकर स्वास्थ्य विभाग ने जारी की SOP
Share on whatsapp