logo

जिले का पहला कीवी और ताम्र आउटलेट का जिलाधिकारी ने किया शुभारंभ, रिप परियोजना करेगी संचालन

खबर शेयर करें -

पिंडारी सड़क मार्ग के टैक्सी स्टैंड के पास कीवी आउटलेट में मिलेंगे विभिन्न उत्पाद।

जिलाधिकारी अनुराधा पाल के कुशल नेतृत्व में जिले में स्वरोजगार की दिशा में नए आयाम खुले। कीवी उत्पादन के बाद कीवी से निर्मित विभिन्न उत्पादों,पेय पदार्थों से किसानों और युवाओं की आर्थिकी होगी मजबूत। सोमवार को जिलाधिकारी ने पिंडारी सड़क मार्ग के टैक्सी स्टैंड के समीप कीवी एवं ताम्र उद्योग आउटलेट का फीता काटकर शुभारंभ किया।
आउटलेट का शुभारंभ करते हुए जिलाधिकारी ने कहा कि आउटलेट खुलने से कीवी उत्पादकों को इसका सीधा लाभ मिलेगा। जहां वह कीवी का विक्रय कर सकेंगे वहीं वह इससे बने उत्पाद भी आसानी से बेच सकेंगे। जिलाधिकारी ने कहा कि किसानों की आय में वृद्वि करने एवं जनता को यह गुणकारी फल आसानी से मिल सकें इस हेतु आउटलेट सेंटर खोला गया है। उन्होंने कहा कि जिले में कई इलाकों पर कीवी प्रमुख उत्पादक फल बन चुका है। जनपद की कीवी का आकार बड़ा और गुणकारी होने से यहां की कीवी की मांग बाजार में ज्यादा है। कीवी उत्पादन से और ज्यादा किसान जुड़े इसके लिए राज्य सेक्टर व जिला योजना से भी किसानों को लाभान्वित किया जाएगा। तथा कीवी की खेती के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा। जिलाधिकारी ने कहा कि कीवी उत्पादन से किसानों की अच्छी आमदनी हो रही है इसको लेकर किसान भी काफी उत्साहित हैं। जिलाधिकारी ने कहा कि कीवी का उत्पादन ज्यादा होने से किसानों को बाजार मुहैया कराने के लिए चारधाम यात्रा मार्ग,एवं अन्य जिलों में कीवी आउटलेट खोलने का भी प्रयास किया जाएगा। स्वरोजगार को बढ़ावा देने के लिए जिलाधिकारी ने जिले में ताम्र उद्योग से जुड़े हस्तशिल्पियों एवं कारीगरों को भी बाजार मुहैया कराया है। पिंडारी सड़क मार्ग के टैक्सी स्टैंड के निकट आउटलेट में तांबे से बने विभिन्न प्रकार के आकर्षक स्मृति चिन्ह,पारम्परिक वर्तन आदि जनता को आसानी से मिल सकेंगे। जिलाधिकारी ने कहा कि ताम्र उद्योग से खरई पट्टी के 40 कारीगरों को इसका सीधा लाभ मिलेगा। इस दौरान मुख्य विकास अधिकारी आर.सी तिवारी,जिला उद्यान अधिकारी आरके सिंह, महाप्रबंधक उद्योग चंद्रमोहन, परियोजना प्रबंधक रिप मो.आरिफ,किशन सिंह मलड़ा, रमेश पर्वतीय समेत अन्य लोग उपस्थित थे।

यह भी पढ़ें 👉  तन्मय तिवारी बने सेना में अफसर, माता-पिता, परिजनों, और परिचितों का सीना गर्व से चौड़ा
Share on whatsapp