logo

मानव स्वास्थ्य के दूसरे हत्यारे ध्वनि प्रदूषण को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता…

खबर शेयर करें -

राजकुमार परिहार ( प्रिंस )


हमारे पर्यावरण में प्रदूषण केवल वायु और जल प्रदूषण नहीं है। ध्वनि प्रदूषण आंखों के लिए अदृश्य है, लेकिन वह मानव स्वास्थ्य के लिए बहुत ही खतरनाक है। विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा जारी “शोर प्रदूषण के कारण होने वाली बीमारियों का बोझ” रिपोर्ट में, ध्वनि के खतरों को वायु प्रदूषण के बाद मानव स्वास्थ्य के दूसरे हत्यारे के रूप में सूचीबद्ध किया गया है। लंबे समय तक शोर-प्रदूषित वातावरण में रहने से मूड, नींद और स्वास्थ्य जैसे कई पहलुओं में समस्याएं पैदा होंगी।

कुछ लोगों में शोर सहन करने की क्षमता कम होती है, लेकिन इसका दोष उनकी स्वास्थ्य समस्याओं को नहीं ठहराया जा सकता। लोगों को एक शांत वातावरण में रहने का अधिकार है। शोर से उत्तेजित होने पर, कुछ लोगों को तत्काल शारीरिक या मनोवैज्ञानिक असुविधा का अनुभव होता है। यहां तक कि जो लोग सोचते हैं कि वे शोर से प्रतिरक्षित हैं, उनके स्वास्थ्य को अनजाने में नुकसान पहुंचाया जाता है। शोर की परिभाषा पर आसपास के वातावरण और घटना के समय के साथ व्यापक रूप से विचार किया जाना चाहिए। आमतौर पर यह माना जाता है कि 50dB से ऊपर की ध्वनि, जो मानव शरीर के लिए स्पष्ट असुविधा का कारण बनती है, वह शोर है।

यह भी पढ़ें 👉  नदी में डूबने से दंपती की मौत,मार्च में हुए थी शादी

तेज़ शोर के अलावा कम आवृत्ति का शोर भी एक आम प्रदूषण है। कम-आवृत्ति शोर को अक्सर नजरअंदाज कर दिया जाता है, जैसे कि एयर कंडीशनर की आवाज जो हम अक्सर सुनते हैं, घरेलू उपकरणों के भिनभिनाने की आवाज, लिफ्ट की आवाज और बिजली के उपकरण के चार्जिंग की आवाज आदि वे सब कम आवृत्ति के शोर के स्रोत हैं। आम तौर पर, 20Hz से 200Hz की रेंज में ध्वनि कम आवृत्ति वाली ध्वनि होती है। इसके विपरीत, 500 हर्ट्ज से 2000 हर्ट्ज की सीमा में ध्वनि एक मध्यवर्ती आवृत्ति ध्वनि है। 2000Hz से ऊपर या यहां तक कि 16000Hz जितनी ऊंची ध्वनि उच्च-आवृत्ति ध्वनि से संबंधित है।

यह भी पढ़ें 👉  चंपावत में युवक में माँ सहित तीन लोगों पर चाकू से किया हमला,खुद भी हुआ गंभीर घायल हुई मौत

जो लोग लंबे समय तक शोर के संपर्क में रहते हैं, वे बहुत अधिक भावनात्मक और शारीरिक परेशानी, चिंता, चिड़चिड़ापन, क्रोध और अन्य समस्याएं लेकर आएंगे, और अनिद्रा से भी पीड़ित हो सकते हैं। पर्यावरणीय शोर में प्रत्येक डेसिबल वृद्धि के लिए, उच्च रक्तचाप की घटनाओं में 3% की वृद्धि होगी। एंडोक्रिनोलॉजी, मधुमेह और मूड से संबंधित कुछ हार्मोनों का स्तर भी शोर से जोड़ता है। उधर, सभी ध्वनियाँ बुरी नहीं हैं। प्रकृति में हवा और बारिश की आवाज़ और सुंदर संगीत आदि शोर नहीं हैं, वे लोगों को आराम दे सकते हैं। आशा है कि हर कोई शांत और खुशहाल वातावरण में रह सकता है।

यह भी पढ़ें 👉  राज्य में अवैध खनन पर लगाम लगाने के लिए बड़ा फैसला
Share on whatsapp