logo

उच्च न्यायालय नैनीताल ने इस मामले में सभी जिलों के डीएम और एसएसपी को चार हफ्ते में जवाब पेश करने को कहा

खबर शेयर करें -

पहाड़ी क्षेत्रों में चल रहे डग्गामार वाहनों के खिलाफ दायर जनहित याचिका पर नैनीताल हाईकोर्ट में सुनवाई हुई। मुख्य न्यायाधीश विपिन सांघी और न्यायमूर्ति राकेश थपलियाल की खंडपीठ ने नैनीताल, अल्मोड़ा, बागेश्वर और पिथौरागढ़ के जिलाधिकारियों एवं एसएसपी समेत अन्य को नोटिस जारी किया है। सभी डीएम और एसएसपी को चार हफ्ते के भीतर जवाब पेश करने को कहा गया है। इस मामले की अगली सुनवाई 24 अप्रैल 2024 को होगी।

हल्द्वानी के बद्रीपुरा निवासी विजय सिंह बिष्ट ने नैनीताल हाईकोर्ट में एक जनहित याचिका दायर की है. जिसमें उन्होंने कहा है कि कुमाऊं क्षेत्र के पहाड़ी इलाकों में चलने वाले ज्यादातर टैक्सी वाहनों के ऊपर बिना परमिट के लगेज को लादने के लिए कैरियर लगा हुआ है. जो कंपनी की ओर से मानकों के अनुरूप नहीं है. उसके बाद भी वाहन स्वामी अपने वाहन के ऊपर लगेज कैरियर लगा रहे हैं, जो मोटर व्हीकल एक्ट के भी खिलाफ है.

यह भी पढ़ें 👉  बागेश्वर का मयूँ गांव बनेगा पीपल - वट विवाह का गवाह

इस बारे में साल 2002 में तत्कालीन परिवहन सचिव ने यूनियन के साथ बैठक कर कई दिशा निर्देश जारी किए थे. जिसमें परमिट की वैधता, ड्राइवर सीट के पास बेरियर, वाहन के छत पर गाड़ी की क्षमता के अनुसार कैरियर न लगाना, सह चालक को गाड़ी चलाने की अनुमति न देना, समय-समय पर वाहन की वैधता और लाइसेंस वैधता शामिल था.

यह भी पढ़ें 👉  झूठा मुकदमा दर्ज कराने पर न्यायालय ने पूर्व मुख्य कृषि अधिकारी बागेश्वर पर लगाया दो लाख का जुर्माना

उसके बाद भी पहाड़ में हादसों का मुख्य कारण वाहनों में क्षमता से ज्यादा सवारी, छत पर कैरियर लगाना, बिना परमिट वाहन चलाना, सहायक को गाड़ी देना है. जिसकी वजह से आए दिन पहाड़ों में हादसे हो रहे हैं. जिससे कई लोगों के परिवार उजड़ रहे हैं. लिहाजा, इस पर रोक लगाई जाए.

यह भी पढ़ें 👉  जेसीबी मशीन खाई में गिरी, ऑपरेटर की दुर्घटना में मौत, एक घायल
Share on whatsapp