logo

ई-रक्तकोष पोर्टल पर एक लाख से अधिक ने किया पंजीकरण

खबर शेयर करें -

उत्तराखंड में सेवा पखवाड़े के अंतर्गत लोगों द्वारा स्वैच्छिक रक्तदान पंजीकरण से लगाया जा रहा है। राज्य में 17 सितम्बर से अभी तक आयुष्मान भव कार्यक्रम के तहत आयोजित सेवा पखवाड़े के अंतर्गत एक लाख से अधिक लोगों ने स्वैच्छिक रक्तदान हेतु ई-रक्तकोष पोर्टल पर पंजीकरण कराने का पूरे देश में रिकॉर्ड कायम किया है। इस प्रकार राज्य में विगत दो वर्षों के दौरान स्वैच्छिक रक्तदान हेतु एक लाख 94 हजार से अधिक लोगों ने ई-रक्तकोष पोर्टल पर अपना पंजीकरण करा लिया है जिसको आगामी दो अक्टूबर तक दो लाख के पार करने का लक्ष्य रखा गया है। जबकि सेवा पखवाडे के अंतर्गत 17 सितम्बर 2023 से आयोजित 654 रक्तदान शिविरों में 6 हजार 335 लोगों ने स्वैच्छिक रक्तदान किया है।

राज्य सरकार स्वास्थ्य सेवाओं के प्रति कितनी संजीदा है इस बात का अनुमान प्रदेश में आयोजित सेवा पखवाड़े के अंतर्गत लोगों द्वारा स्वैच्छिक रक्तदान पंजीकरण से लगाया जा सकता है। राज्य में 17 सितम्बर से आतिथि तक आयुष्मान भव कार्यक्रम के तहत आयोजित सेवा पखवाड़े के अंतर्गत एक लाख से अधिक लोगों ने स्वैच्छिक रक्तदान हेतु ई-रक्तकोष पोर्टल पर पंजीकरण कराने का पूरे देश में रिकॉर्ड कायम किया है। इस प्रकार राज्य में विगत दो वर्षों के दौरान स्वैच्छिक रक्तदान हेतु एक लाख 94 हजार से अधिक लोगों ने ई-रक्तकोष पोर्टल पर अपना पंजीकरण करा लिया है जिसको आगामी दो अक्टूबर तक दो लाख के पार करने का लक्ष्य रखा गया है। जबकि सेवा पखवाडे के अंतर्गत 17 सितम्बर 2023 से आयोजित 654 रक्तदान शिविरों में 6 हजार 335 लोगों ने स्वैच्छिक रक्तदान किया है।

यह भी पढ़ें 👉  भूमिका बसेड़ा का नेशनल कैंप में हुआ चयन

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के जन्मदिवस 17 सितम्बर 2023 से आगामी 02 अक्टूबर 2023 तक देशभर में आयुष्मान भव अभियान के तहत सेवा पखवाड़े का आयोजन किया गया है। जिसमें आयुष्मान आपके द्वार 3.0 के तहत विभिन्न कार्यक्रमों के साथ ही वृहद रूप से रक्तदान शिविरों का भी आयोजन किया जा रहा है। इसी के तहत राज्य में भी स्वास्थ्य मंत्री डॉ. धन सिंह रावत की पहल पर प्रत्येक जनपद में राजकीय चिकित्सा केन्द्रों, वेलनेस सेंटरों एवं शिक्षण संस्थानों में रक्तदान शिविरों का आयोजन किया जा रहा है। जिसके अंतर्गत स्वास्थ्य विभाग के तत्वाधान में एनएसएस, स्काउट्स-गाइड्स, रोवर्स-रेंजर्स, रेडक्रॉस व रेखीय विभागों के सहयोग से रक्तदान हेतु जन जागरूकता अभियान चलाने के साथ ही रक्तदान शिविरों का संचालन किया गया है। सेवा पखवाड़े के तहत अब तक 654 रक्तदान शिविरों में 17 सितम्बर से 29 सितम्बर तक एक लाख 08 हजार 194 लोगों ने स्वैच्छिक रक्तदान हेतु भारत सरकार के पोर्टल ई-रक्तकोष पर अपना पंजीकरण कराया है, जोकि सेवा पखवाड़े के दौरान रखे गये एक लाख पंजीकरण के निर्धारित लक्ष्य को पहले ही पार कर चुका है। जबकि गत वर्ष सेवा पखवाडे के दौरान आयोजित रक्तदान शिविरों में 54 हजार 756 लोगों एवं अन्य मौकों पर 31207 लोगों स्वैच्छिक रक्तदान हेतु पंजीकरण कराया था। इस प्रकार राज्य में विगत दो वर्षों में आयोजित सेवा पखवाड़े के तहत स्वैच्छिक रक्तदान कराने वालों की संख्या एक लाख 94 हजार 157 पहुंच गई है। दूसरी ओर 17 सितम्बर 2023 से अबतक सेवा पखवाडे के अंतर्गत प्रदेशभर में 6 हजार 335 लोगों ने स्वैच्छिक रक्तदान भी किया है। रक्तदान शिविरों में देहरादून जनपद में सर्वाधिक 19412, पिथौरागढ़ में 17375, नैनीताल 12225, पौड़ी गढ़वाल 10550, टिहरी गढ़वाल 10348, हरिद्वार 9586, ऊधमसिंह नगर 9252, अल्मोड़ा 6591, चमोली 3357, उत्तरकाशी 3400, चम्पावत 2462, रूद्रप्रयाग 1884 तथा बागेश्वर में 1752 लोगों ने स्वैच्छिक रक्तदान हेतु पंजीकरण कराया है। इसी प्रकार सर्वाधिक 2242 लोगों ने देहरादून में स्वैच्छिक रक्तदान किया। जबकि हरिद्वार में 1359, ऊधमसिंह नगर में 1007, नैनीताल में 871, पौड़ी गढ़वाल में 235, पिथौरागढ़ में 206, टिहरी गढ़वाल 69, बागेश्वर 68, चमोली 65, चम्पावत 63, अल्मोड़ा 61, रूद्रप्रयाग 52, तथा उत्तरकाशी में 37 लोगों ने स्वैच्छिक रक्तदान किया।

यह भी पढ़ें 👉  जेसीबी मशीन खाई में गिरी, ऑपरेटर की दुर्घटना में मौत, एक घायल

चिकित्सा स्वास्थ्य एवं चिकित्सा शिक्षा मंत्री डॉ. धन सिंह रावत उत्तराखंड सरकार ने बताया की आयुष्मान भव अभियान के अंतर्गत 17 सितम्बर से 02 अक्टूबर 2023 तक देशभर में सेवा पखवाड़े का आयोजन किया जा रहा है। इस दौरान उत्तराखंड में भी प्रत्येक जनपद में विभिन्न कार्यक्रमों के साथ ही रक्तदान शिविर आयोजित किये जा रहे हैं। जिनमें अब तक एक लाख 8 हजार 194 लोगों ने स्वैच्छिक रक्तदान हेतु अपना पंजीकरण कराया है जोकि एक लाख के लक्ष्य को भी पार कर गया है यहा पूरे देश में पंजीकरण का सर्वाधिक आंकडा है।

यह भी पढ़ें 👉  पहाड़ी राज्य का अस्तित्व खत्म करने का किया जा रहा है काम,हाईकोर्ट को पहाड़ में ही होना चाहिए शिफ्ट : बॉबी पवार
Share on whatsapp