logo

कुमाऊ आयुक्त और डीआईजी ने खटीमा में जलभराव क्षेत्र का किया निरीक्षण

खबर शेयर करें -

खटीमा क्षेत्र में वर्षा बाढ़ से भारी जलभराव होने पर मण्डलायुक्त दीपक रावत, डीआईजी योगेन्द्र सिंह रावत ने खटीमा बाजार, नगला तराई गांव, मेलाघाट जमौट, प्रतापपुर आदि जलभराव क्षेत्रों का स्थलीय निरीक्षण किया। उन्होंने रेस्क्यू व राहत कार्यों का जायजा लिया। उन्होंने कहा किसी को भी कतई परेशानी नहीं होने दी जायेगी, लोग संयम व धैर्य से काम लें, सभी को प्रशासन द्वारा राहत पहुॅचाई जायेगी।
मण्डलायुक्त श्री रावत ने जिलाधिकारी उदयराज सिंह, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक मंजुनाथ टीसी, उपजिलाधिकरी रवीन्द्र बिष्ट, एनडीआरएफ के श्री दुबे से रेस्क्यु , राहत-बचाव कार्यों की पूर्ण जानकरी ली।
जिलाधिकारी ने बताया कि कल रात से क्षेत्र में भारी वर्षा के कारण प्रातः जलभराव हो गया था, प्रातः से ही रेस्क्यु, राहत बचाव कार्य प्रारंभ कर दिया गया था। रेस्क्यु , राहत बचाव कार्य जिला प्रशासन, पुलिस, एनडीआरएफ व एसडीआरएफ के माध्यम से सुचारू है तथा जलभराव क्षेत्रों से लोगों को रेस्क्यु कर निकालने का कार्य सुबह से ही किया जा रहा है। अभी तक प्रशासन, पुलिस व एनडीआरएफ द्वारा क्षेत्र के लगभग 500 लोगों को रेस्क्यु कर निकाला गया है व उन्हें रिश्तेदारों के घर पहुॅंचाया गया है। उन्होंने बताया कि जो घर में रहकर ही पानी के कम होने का इंतजार कर रहे है उन्हें खाना-पानी दिया गया है।
उन्होंने बताया कि राजीव नगर अमाऊ, पकड़िया, प्रतापपुर व तराई नगला क्षेत्र में पानी भरा हुआ था, सभी जगह राहत बचाव कार्य किया गया। उन्होंने बताया कि राहत बचाव एव राहत शिविर की पूर्ण तैयारियॉं है। सभी जलभराव प्रभावति क्षेत्रों के लोगों के लिए भोजन-पानी की व्यवस्था कर दी गई है। अपरजिलाधिकारी, उपजिलाधिकारी वहीं कैम्प कर रहे है, सारी व्यस्था सुनिश्चित करेंगे, राहत कार्यों में किसी भी प्रकार की कमी नहीं आने दी जायेगी।
आयुक्त ने सभी लोगों से अपील की है कि वर्षाकाल में सांपों के काटने का भय रहता है इसलिए चारपाई में व ऊचें स्थानों पर सोये। उन्होंने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को चिकित्सालयों में एन्टी स्नेक वैनम पर्याप्त मात्रा में रखने व जलजनित बीमारियों की दवाईयॉं भी पर्याप्त मात्रा में रखने के निर्देश दिये।
राहत बचाव कार्यों में अपरजिलाधिकरी अशोक जोशी, उपजिलाधिकारी रवीन्द्र बिष्ट सहित जिला प्रशासन के अधिकारी व एनडीआरएफ/एसडीआरएफ पुलिस आदि मौजूद थे।

यह भी पढ़ें 👉  बाढ़ में घर का सामान निकालने गए एक ही गांव के दो युवकों की डूबने से गई जान
Share on whatsapp