logo

फुटबालर रोहित दानू का भारतीय टीम में हुआ चयन, जिले में खुशियों की लहर

खबर शेयर करें -

बागेश्वर: फुटबालर रोहित दानू का चयन भारतीय फुटबाल 19 वे एशियाई खेलों के लिए हुआ है। वह चाइना के हांग्जो में आयोजित प्रतियोगिता में प्रतिभाग करेंगे। उत्तराखंड से एकमात्र खिलाड़ी और एशियन गेम में बागेश्वर के पहले खिलाड़ी होने पर खेल प्रेमियों में खुशी दौड़ गई है।

कपकोट तहसील के बघर गांव हाल बागेश्वर, कठायतबाड़ा वार्ड निवासी रोहित की शिक्षा कंट्रीवाइड पब्लिक स्कूल से हुई। उनका 19 वीं पुरुष एशियन गेम के लिए चयन हुआ है। वह भारतीय टीम का हिस्सा बने हैं। टीम में तीन सीनियर खिलाड़ी भी रहेंगे। 22 खिलाड़ियों में उत्तराखंड से एकमात्र खिलाड़ी होंगे। उन्होंने देश और प्रदेश के लिए कई उपलब्धियां हासिल की हैं। सेंटर फारवर्ड प्लेयर के तौर पर खेलते हैं। उनकी इस उपलब्धि पर पिता प्रताप सिंह माता गंगा दानू और कोच नीरज पांडेय ने खुशी व्यक्त की है। बागेश्वर की धरती से फुटबाल खेलने की शुरुआत करने वाले रोहित दानू ने कोच नीरज पांडेय से फुटबाल की बारीकियां सीखी। रोहित भारतीय अंडर 14, 15, 16, 17 व 19, 23 टीम से खेल चुके हैं। अब उन्हें भारतीय फुटबाल टीम के लिए सेलेक्ट किया गया है। जहा वह भारतीय महान फुटबाल खिलाड़ी सुनील छेत्री के साथ खेलने। उनकी सफलता पर कंट्रीवाइड के चयेरमैन जगदीश पांडे, मोहन पांडे, एनबी भट्ट, शंकर पांडे, कवि जोशी, मोहनी पांडेय आदि ने खुशी व्यक्त की है। उन्हें सम्मानित करने का निर्णय लिया है।

यह भी पढ़ें 👉  अनुसूचित जाति और जनजाति मामलों के त्वरित निस्तारण के सीएम धामी ने दिए निर्देश

कोच नीरज पांडे ने बताया की रोहित आठ साल से फुटबाल खेलने के खेलने आते थे। वह काफी प्रतिभाशाली थे। बचपन से ही सीनियर खिलाड़ियों के साथ प्रतिभाग करते थे। बागेश्वर से चयन होकर उत्तराखंड की अंडर 14 फुटबाल टीम में चयन होकर। सीधे राष्टीय प्रतियोगिता में हिमाचल में प्रतिभाग किया। वही से उनका चयन भारतीय अंडर 14 प्रतियोगिता में हुआ। जिसमे उन्होंने भारतीय टीम के साथ कजाकिस्थान में अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिता में प्रतिभाग किया। उसके बाद वह कभी पीछे नहीं मुड़े। आज उनका चयन भारतीय एसियाड टीम के लिए चयन हुआ है। जो काफी बड़ी उपलब्धि है।

यह भी पढ़ें 👉  26 जुलाई को कारगिल विजय शौर्य दिवस मनाया जाएगा धूमधाम से

कोच नीरज पांडे की पारखी नजर ने पहचाना हुनर

बागेश्वर में पढ़ाई के दौरान रोहित दानू की प्रतिभा को उनके कोच नीरज पांडे ने पहचाना। कोच नीरज पांडे आज रोहित की सफलता से बेहद खुश हैं। नीरज पांडे ने बताया कि रोहित फुटबॉल के प्रति जुनूनी स्वभाव का था उनकी लगन मेहनत और तैयारी देख कर ही लगता था कि वह दिन बुलंदियों को जरूर छूटेगा। रोहित ने अपनी प्रतिभा दिखा कर इसकी शुरुआत भी कर दी है। नीरज ने बताया कि रोहित की तरह अन्य युवा भी मेहनत और लगन से खेल पर ध्यान दें तो सफलता जरूर मिलेगी।

नीरज पांडे की कोचिंग में खेलने वाले खिलाड़ी कई राष्ट्रीय प्रतियोगिता में खेल चुके है। जिनमे 12 बालक और 19 बालिकाएं है। उनकी कोचिंग में जिले की टीम एक बार राज्य स्तरीय प्रतियोगिता में विजेता रही है। वही बालिकाओं की टीम दो बार अंतर विश्वविधालय में विजेता रही है। और छ बार उप विजेता रही है। नीरज पांडे की कोचिंग में 65 बालक बालिकाओं ने राष्टीय और राज्य स्तरीय मैचो में उपलब्धियां हासिल की है।

यह भी पढ़ें 👉  विधानसभा उपचुनाव में कांग्रेस ने मंगलौर और बद्रीनाथ सीट पर जीत का लहराया परचम

रोहित दानू ने बताया की मेरे बड़े भाई नवीन दानू, दलीप सर, धीरेंद्र परिहार और नीरज पांडे सर ने मुझे बचपन से ही मुझे हर मुकाम पर आगे बढ़ने के लिए प्रेरित किया है आज मैं जो भी हु जहा भी हूं वह इन्ही लोगो के प्रयासों से ही हु। पांडे सर का विशेष प्रयास ताउम्र याद रहेगा।

Share on whatsapp