logo

डायलिसिस यूनिट को खुद डायलिसिस की जरूरत

खबर शेयर करें -

जिला अस्पताल में डायलिसिस यूनिट भगवान भरोसे चल रही है। बिजली जाते ही मशीनें 15 मिनट में बंद हो जाती हैं। आज के दिन तक 34 रोगी उपचार के लिए वेटिंग पर हैं। अधिकतर रोगियों को अल्मोड़ा, हल्द्वानी, बरेली अस्पतालों के चक्कर काटने पड़ रहे हैं। जिसको लेकर पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष ने आक्रोश जताया है। उन्होंने व्यवस्थाओं में सुधार की मांग की है। ऐसा नहीं होने पर उग्र आंदोलन की चेतावनी दी है।

यह भी पढ़ें 👉  यहां सीबीआई ने सीपीडब्ल्यूडी के सहायक अभियंता को एक लाख की रिश्वत लेते रंगे हाथों किया गिरफ्तार

बता दे की आज पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष हरीश ऐठानी ने जिला अस्पताल के डायलिसिस यूनिट का निरीक्षण किया। उन्होंने कहा कि सेंटर पर मात्र तीन बेड हैं। डायलिसिस कराने के लिए रोगियों की लंबी कतार है। बेड कम होने से दिक्कतें बढ़ गई हैं। सेंटर पर चार कर्मचारी नियुक्त हैं। डा. रितेश कुमार सिंह, सीनियर टेक्नीशियन संजीव कुमार, जूनियर टेक्नीशियन दिया और वार्ड ब्वाय हरीश के सहारे डायलिसिस सेंटर छोड़ दिया गया है। उन्होंने कहा कि प्रत्येक दिन बिजली जाने से 15 मिनट के बाद सेंटर बंद हो जाता था। जिससे डायलिसिस सेंटर के रोगियों का उपचार ठीक से नहीं हो पा रहा है। उन्होंने कहा कि यदि व्यवस्थाएं दुरुस्त नहीं होंगी तो आंदोलन किया जाएगा। इधर, सीएमएस डा. वीके टम्टा ने कहा कि मशीनें बढ़ाने का प्रस्ताव जिला प्रशासन को भेजा है। अस्पताल आनुधिक बन रहा है। डायलिसिस सेंटर में भी विस्तार होगा।

यह भी पढ़ें 👉  सीएमएस के विरोध में उतरे चिकित्सक, प्रर्दशन कर ओपीडी का किया बहिष्कार
Share on whatsapp