logo

बद्रीनाथ हाइवे पर टेंपो ट्रेवलर नदी में समाया, 12 की मौत 14 घायल

खबर शेयर करें -

बदरीनाथ हाईवे पर रैंतोली के पास एक टेम्पो ट्रैवलर वाहन अनियंत्रित होकर अलकनंदा नदी में समा गया. हादसे में 12 लोगों की मौत हुई है. बताया जा रहा है कि टेम्पो ट्रैवलर में कुल 26 लोग थे. हादसा बदरीनाथ हाईवे के रेंतोली के पास हुआ है. एसपी डाॅ. विशाखा अशोक भदाणे ने हादसे की पुष्टि की है. मौके पर रेस्क्यू अभियान जारी है. हादसे की सूचना पर पुलिस प्रशासन, जिला आपदा प्रबंधन, डीडीआरएफ समेत अन्य टीमों ने मौके पर पहुंचकर रेस्क्यू कार्य किया. कुल 7 घायलों को एयरलिफ्ट कर हायर सेंटर ऋषिकेश AIIMS भिजवाया गया था, जिनमें से 2 घायलों की मौत हो गई. वहीं 9 घायलों का रुद्रप्रयाग जिला अस्पताल में इलाज चल रहा है. फिलहाल 14 घायलों का इलाज चल रहा है.

यह भी पढ़ें 👉  पिथौरागढ़ के कृष्ण कुमार दौड़ के माध्यम से नशामुक्ति का दे रहे है संदेश,13 जिलों में 30,000 लोगों को नशे के खिलाफ करेंगे जागरूक

जिस स्थान पर घटना घटित हुई है, वहां पर एक्सीडेंट होने की संभावनाएं कम हैं. हाईवे किनारे बने पैराफिट को तोड़ते हुए वाहन खाई में गिरा. दुर्घटना का प्रथम कारण वाहन चालक को नींद आना बताया जा रहा है. घटना में घायल मरीजों और मृतकों के बारे में प्रशासन और पुलिस के द्वारा जानकारी जुटाई जा रही है. घटना की सूचना मिलने पर एसडीआरएफ, पुलिस, डीडीआरएफ और अन्य रेस्क्यू टीमें मौके पर पहुंची. दिल्ली से यात्रियों को लेकर निकला वाहन रुद्रप्रयाग जिला मुख्यालय से लगभग तीन किमी पहले रैंतोली में लगभग तीन सौ मीटर गहरी खाई में गिरकर अलकनंदा नदी में समा गया. बताया जा रहा है कि सभी लोग चोपता तुंगनाथ जा रहे थे.

एम्स ऋषिकेश पुलिस चौकी प्रभारी विनेश कुमार ने बताया कि, AIIMS में जो घायल लाए गए हैं उनमें धर्मेंद्र कुमार (23 वर्ष पुत्र मनोहर राम निवासी अल्मोड़ा उत्तराखंड हाल निवासी नई दिल्ली), पंडित आदित्य (25 वर्ष पुत्र प्रिंस अरोड़ा निवासी मथुरा) और एक महिला छवि शामिल है. दो घायलों को अभी होश नहीं आया है, जिस कारण उनकी पहचान नहीं हो पाई है. AIIMS में इलाज के दौरान मृत घोषित किए गए लोगों की भी अभी पहचान नहीं हो पाई है.वहीं, हादसे पर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और सीएम पुष्कर सिंह धामी ने दुख जताया है. सीएम धामी ने सोशल मीडिया एक्स पर लिखा कि, ‘रुद्रप्रयाग में टेम्पो ट्रैवलर के दुर्घटनाग्रस्त होने का अत्यंत पीड़ादायक समाचार प्राप्त हुआ. स्थानीय प्रशासन व SDRF की टीमें राहत एवं बचाव कार्यों में जुटी हुई है. घायलों को नजदीकी चिकित्सा केंद्र पर उपचार हेतु भेज दिया गया है. जिलाधिकारी को घटना की जांच के आदेश दे दिए हैं. ईश्वर से प्रार्थना है कि दिवंगतों की आत्मा को श्रीचरणों में स्थान एवं शोक संतप्त परिजनों को यह असीम कष्ट सहन करने की शक्ति प्रदान करें. बाबा केदार से घायलों के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की कामना करता हूं.’

यह भी पढ़ें 👉  धारचूला में अतिवृष्टि से कूलागाड़ वैली ब्रिज के पास मलबा हुआ जमा, कुलागाड़ में भारी मलबा और बोल्डर आने से उसका प्रवाह रुका
Share on whatsapp