logo

उत्तराखंड के युवाओं विश्व रिकॉर्ड बना कर रचा नया इतिहास।

खबर शेयर करें -

एडवेंचर स्पोर्ट्स एसोसिएशन ऑफ़ उत्तराखण्ड की 12 सदस्य टीम ने एक नया विश्व रिकॉर्ड स्थापित कर दिया है।
विश्व पर्यटन दिवस के अवसर पर उत्तराखंड के 8 जनपदों के युवाओं द्वारा पिथौरागढ़ जनपद मुख्यालय से आदि कैलाश व ॐ पर्वत के लिए जनपद मुख्यालय से विश्व की पहली “High Altitude Relay Race”, The Himalayan Chase के Phase 1 के पहले संस्करण में टीम का लक्ष्य पिथौरागढ़ से ओम पर्वत और आदि कैलाश तक दौड़कर जाने का हुआ।

इन्होंने इस रेस का नाम रखा था The Himalayan Chase: The Adi Kailash and Om Parvat Challenge.

15000 ft की ऊँचाई पर होने वाली इस रेस में टीम ने 5 दिनों में 235 km की दूरी तय करी।

यह भी पढ़ें 👉  मानसून काल के लिए सतर्क रहें सभी विभाग, जिलाधिकारी ने बैठक में दिए निर्देश

ये रेस अत्यंत चुनौतीपूर्ण थी पर पूरी टीम के जोश और जज्बे के सामने सारी चुनौतियाँ फीकी साबित हुई उच्च तुंगता वाले क्षेत्रों में जहा चलना भी मुस्किल होता है वहा युवाओं ने दौड़ने का लक्ष्य निर्धारित किया।

इस रेस का उद्देश्य उत्तराखण्ड के कोल्ड डेज़र्ट्स को पहचान दिलाना है।

12 सदस्य टीम में
अविजित जमलोकी, सागर देवराड़ी, एवरेस्टर मनीष कसनियाल, नीरज सामंत , आकाश डोभाल , पंकज बिष्ट , युवराज सिंह रावत , ऋषभ जोशी , रजत जोशी, दीपक बाफिला, विवेक सिंह रावत, नवनीत सिंह शामिल थे। इनमें सात (7) धावक थे और बाक़ी मैनेजमेण्ट और फ़िल्म टीम शामिल थी।

यह भी पढ़ें 👉  CBSE 12TH RESULT: सीबीएसई 12वीं का रिजल्ट

इस इवेंट पर एसोसिएशन द्वारा एक डॉक्युमेंट्री फ़ीचर फ़िल्म भी बनायी जा रही है जो जल्द ही बड़े पैमाने में प्रकाशित की जायेगी।

अब यह टीम इसके बाद नीति घाटी में रिले रेस करने वाली है जो और भी ज़्यादा मुश्किल और चुनौतियों से भरी होगी।

अगले संस्करण का नाम होगा The Himalayan Chase: The Niti Challenge.

Phase 1 में 4 रेस होनी हैं- नीति, नेलांग और जोहार घाटियों में।
उत्तराखंड के युवाओं द्वारा जो यह दल बनाया गया है यह प्रथम भारतीय दल के रुप में स्थापित हुआ है और इस दल ने अपने इस रिले अभियान को पूर्ण कर 235 किलोमीटर दौड़कर विश्व रिकॉर्ड बना लिया है।
टीम द्वारा सभी स्पॉन्सर्स का धन्यवाद किया है व सोसियल मीडिया में टीम को बधाई देने वालो का तांता लग गया है।

यह भी पढ़ें 👉  पहाड़ी राज्य का अस्तित्व खत्म करने का किया जा रहा है काम,हाईकोर्ट को पहाड़ में ही होना चाहिए शिफ्ट : बॉबी पवार
Share on whatsapp