logo

आज बंद हो जाएगा आपका FASTag! फटाफट करें ये काम

खबर शेयर करें -

नेशनल हाइवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया (NHAI) के अनुसार, FASTag अकाउंट के लिए KYC वेरिफिकेशन की लास्ट डेट 31 जनवरी है जिसके बाद पूरा बैलेंस होने के बाद भी अकाउंट को बंद कर दिया जाएगा.

FASTag KYC अपडेट करने की आज आखिरी तारीख है. अगर आज भी व्हीकल ओनर्स ने यह काम नहीं किया तो उनके FASTag को बंद कर दिया जाएगा. नेशनल हाइवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया (NHAI) के अनुसार, FASTag अकाउंट के लिए KYC वेरिफिकेशन की लास्ट डेट 31 जनवरी है जिसके बाद पूरा बैलेंस होने के बाद भी अकाउंट को बंद कर दिया जाएगा. यह फैसला इसलिए लिया गया है जिससे एक ही व्हकील के लिए कई FASTag और बिना KYC किए FASTag इश्यू करने जैसी चीजों पर रोक लगाई जा सके. 

यह भी पढ़ें 👉  आपदा मद में ₹13 करोड़ की दूसरी किश्त जारी, जिलाधिकारियों को पुलियाओं, पेयजल लाइनों, सिंचाई नहरों की मरम्मत के निर्देश

इस तरह करें FASTag की KYC डिटेल्स अपडेट: 

  • सबसे पहले अपने बैंक-लिंक्ड Fastag वेबसाइट या https://fastag.ihmcl.com पर जाएं. 
  • यहां अपने रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर से लॉगइन करें. 
  • फिर My Profile सेक्शन पर जाएं और KYC पर क्लिक करें. 
  • इसके बाद सभी जरूरी डिटेल्स को भर दें. इसमें आपको आईडी और एड्रेस प्रूफ भी देना होगा. यहां आपको पासपोर्ट साइज फोटो भी देनी होगी. 
  • सबमिट करने से पहले Declaration पर टैप कर दें. 

कैसे चेक करें KYC का स्टेटस: 
FASTag KYC का स्टेटस चेक करने के लिए एक बार फिर FASTag वेबसाइट पर जाएं. लॉगइन करने के बाद आप यहां से अपने FASTag KYC का स्टेटस चेक कर पाएंगे. 
नोट: बता दें कि FASTag KYC ऑनलाइन अपडेट होने में मैक्सिमम 7 दिन का समय लग सकता है. इस समय में आपके FASTag की KYC अपडेट हो जाएगी. 

यह भी पढ़ें 👉  राज्य में अवैध खनन पर लगाम लगाने के लिए बड़ा फैसला

FASTag KYC के लिए जरूरी डॉक्यूमेंट्स:

  • पासपोर्ट
  • वोटर आईडी कार्ड
  • आधार कार्ड
  • ड्राइविंग लाइसेंस
  • पैन कार्ड
  • NREGA जॉब कार्ड (राज्य सरकार के अधिकारिक द्वारा साइन किया गया)
  • व्हीकल का रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट

क्या है FASTag?
FASTag एक इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन प्रोसेस है जो सभी टोल प्लाजा पर टोल टैक्स पेमेंट को आसान बनाता है. इसके जरिए लिंक किए गए बैंक अकाउंट से टोल अमाउंट अपने आप ही कट जाता है. FASTag रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन (RFID) टेक्नोलॉजी पर काम करता है जो टोल टैक्स पेमेंट को आसानी से इक्ट्ठा करने के प्रोसेस को आसान बनाता है. व्हीकल की विंडस्क्रीन पर एक टैग लगा होता है जो व्यक्ति के बैंक अकाउंट से जुड़ा होता है. ऐसे में जब भी व्हीकल टोल प्लाजा पर पहुंचती है तो स्कैनर टैग को स्कैन करता है और अमाउंट काट लेता है. 

यह भी पढ़ें 👉  नदी में डूबने से दंपती की मौत,मार्च में हुए थी शादी
Share on whatsapp