logo

कांडा के ग्रामीणों ने खड़िया खनन से काली मंदिर में हुई दरारों को लेकर किया विरोध प्रदर्शन, खड़िया खनन बंद करने की करी मांग।

खबर शेयर करें -

कांडा में कालिका मंदिर के समीप खड़िया खनन से हुए मंदिर को नुकसान की उच्चस्तरीय भू वैज्ञानिक जांच करने की मांग को लेकर मंदिर समिति के सदस्यों व ग्रामीणों ने कलक्ट्रेट में प्रदर्शन किया।
क्षेत्रवासियों ने डीएम को ज्ञापन देकर मंदिर के समीप खनन बंद करने का लिखित आदेश जारी करने की मांग की।

बता दे की 10वी शताब्दी के मां कालिका मंदिर के पास हो रहे खड़िया खनन से मंदिर में दरारे आने से नाराज मंदिर समिति के पदा‌धिकारियों और सदस्यों ने कलक्ट्रेट परिसर में नारेबाजी की और भारी विरोध प्रदर्शन किया। ग्रामीणों ने खनन से पैदा हुए खतरे को कम करने के लिए भू धंसाव को तत्काल रोकने का प्रबंध करने, शक्ति पीठ को नुकसान से बचाने के लिए भू वैज्ञानिकों की टीम बुलाकर नुकसान का आकलन करने, मंदिर के संरक्षक के लिए पर्याप्त राशि स्वीकृत करने, खनन की जद में आने वाले अन्य संस्थान सरस्वती शिशु मंदिर, कांडा गैस गोदाम, राजकीय विद्यालय, पब्लिक स्कूल आवासीय मकान, पेयजल स्रोत आदि को बचाने की मांग की। क्षेत्रवासियों ने पांच दिन के भीतर समस्याओं का निदान नहीं होने एकजुट होकर आंदोलन करने की चेतावनी दी। साथ ही मांग को अनसुना करने पर अनिश्चितकालीन अनशन की भी बात कही। उन्होंने कहा की हमारी मांगे नही मानी गई समस्त क्षेत्र की जनता इस आंदोलन में कूदेगी।

यह भी पढ़ें 👉  नाधर माजीला में जख्मी हालत में मिला गुलदार, वन विभाग ने किया रेस्क्यू (वीडियो)

इस मौके पर दरबान सिंह धपोला, दीप चंद्र कांडपाल, दीवान सिंह माजिला, बलवंत सिंह माजिला, नंदन गिरी, केदार सिंह, हिम्मत सिंह, नंदन सिंह, देशराज सिंह, शेखर चंद्र पांडेय, सविता नगरकोटी आदि मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें 👉  न्यायालय ने रिश्वत लेने के मामले में पटवारी को सुनाई तीन साल के कठोर कारावास की सजा, 25 हजार का लगाया जुर्माना
Share on whatsapp