logo

वाहनों का फिटनेस निजी हाथों में देने का टैक्सी चालकों ने किया विरोध, नही चलाई गाड़िया

खबर शेयर करें -

वाहनों की फिटनेस निजी हाथों में दिए जाने पर टैक्सी मालिकों तथा चालकों ने कड़ी आपत्ति जताई है। विरोध में उन्होंने वाहन खड़े रखे और प्रर्दान किया। यहां हुई सभा में जल्द सरकार ने निर्णय वापस लेने की मांग की है। जिलाधिकारी के माध्यम से सीएम को ज्ञापन भेजा है। हड़ताल के चलते लोग परेशान रहे।

ओम शक्ति टैक्सी यूनियन मालिक चालक कल्याण समिति के तत्वावधान में चालक व मालिक कलक्ट्रेट में एकत्रित हुए। यहां नारेबाजी के साथ प्रदर्शन किया। यहां हुई सभा में वक्ताओं ने कहा कि सराकर निजी हाथों में वाहनों की फिरनेस दे रही है। फिटनेस सेंटर मनमानी पर उतर आए हैं। जिन वाहनों की फिटनेस 2500 में हो रही थी उसे नौ से दस हजार कर दी है। अभी तक नैनीता व ऊधमसिंह नगर में यह व्यवस्था लागू हुई है। भविष्य में सरकार इसे पूरे प्रदेश में लागू करने वाली है। उन्होंने व्यवस्था का कड़े शब्दों में निंदा की। जल्द समस्या का समाधान करने की मांग की। इसके बाद सीएम, परिवहन मंत्री के नाम संबोधित ज्ञापन जिलाधिकारी को सौंपा। इधर हड़ताल के चलते वाहन खड़े रहे। लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ा। पांच-पांच किमी लोगों को पैदल चलना पड़ा। इस मौके पर अध्यक्ष पुष्कर जोशी, महासचिव प्रकाश उपाध्याय, उपाध्यक्ष राजेंद्र नेगी, उमेश चंद्र पांडेय आदि मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें 👉  आपदा मद में ₹13 करोड़ की दूसरी किश्त जारी, जिलाधिकारियों को पुलियाओं, पेयजल लाइनों, सिंचाई नहरों की मरम्मत के निर्देश
Share on whatsapp