logo

कपकोट में एसडीएम, तहसीलदार व खंड विकास अधिकारी के पदों का लंबे समय से रिक्त होना सरकार की नाकामी : भगवत सिंह डसीला

खबर शेयर करें -

आज विधानसभा कपकोट में अखिल भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के जिला अध्यक्ष भगवत सिंह डसीला एंव कपकोट के पूर्व विधायक एआईसीसी सदस्य भारत जोड़ो यात्री ललित फर्स्वाण एंव नगर पंचायत अध्यक्ष गोविंद सिंह बिष्ट व कांग्रेस पार्टी के नगर अध्यक्ष प्रकाश कांडपाल, डाक्टर मदन मोहन, कमलेश गढिया, कुंदन गोस्वामी, गौरव परिहार, हरीश कपकोटी, की गरिमामय उपस्थित में एक महत्वपूर्ण पत्रकार वार्ता की गई।

अध्यक्ष जिला कांग्रेस कमेटी के प्रथम बार एक निजी कार्यक्रम में कपकोट पहुंचने पर फूल मालाओ से स्वागत किया गया, और स्थानीय ज्वंलत समस्याओ पर पत्रकार वार्ता की गई।

यह भी पढ़ें 👉  झूठा मुकदमा दर्ज कराने पर न्यायालय ने पूर्व मुख्य कृषि अधिकारी बागेश्वर पर लगाया दो लाख का जुर्माना

जिलाध्यक्ष भगवत सिंह डसीला ने कहा की कपकोट तहसील में कई महीनो से उप जिलाधिकारी का पद रिक्त होना व तहसीलदार व खण्ड विकास अधिकारी जैसे महत्वपूर्ण पदो का रिक्त होना, शासन प्रशासन की घोर नाकमी को दर्शाता हैं। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र कपकोट में 56 लाख रुपए की घोषणा कर, माननीय मुख्य मंत्री पुष्कर सिंह धामी के द्वारा उद्धाटन भी कर दिया गया, पर धरातल पर सब सफेद हाथी साबित हुआ।

साढे छ सौ हैक्टेयर भूमि असिंचित हो गई, पैतीस लाख रुपए खर्च कर दिए गए, परंतु सिंचाई गूल की हालत अभी तक जर्जर हैं। असिंचित भूमि में ऐठाण,बमसेरा,खाईबगड,भानी,हिचौड़ी,पालीडुंगरी जैसे अन्य कई उपजाऊ भूमि बंजर हो चुके हैं। और कई होने की कगार पर हैं।

यह भी पढ़ें 👉  बंदर भगाओ खेती बचाओ जन अभियान संचालन समिति वन मंत्री के बयान की करी निंदा

वही प्रदेश में दो तरह के कानून लागू किए जा रहे हैं,नदी से आरबीएम खनन में हाईकोर्ट के निर्देशानुसार केवल चुगान का आदेश है परंतु व्यक्ति विशेष को मशीनों के द्वारा खनन करवाया जा रहा है, और कहीं अन्य खनन व्यापारी को केवल चुगान के आदेश दिए जा रहे हैं, यह कहीं ना कहीं प्रशासन की दोहरी नीति और सरकार की तानाशाही रवैए को दर्शाता हैं। जिसका जिला कांग्रेस कमेटी जनपद बागेश्वर इसकी कठोर शब्दों में निंदा करती हैं, और यदि समय रहते हुए सरकार नहीं चेती, तो उग्र आंदोलन किया जाएगा।

यह भी पढ़ें 👉  पहाड़ी राज्य का अस्तित्व खत्म करने का किया जा रहा है काम,हाईकोर्ट को पहाड़ में ही होना चाहिए शिफ्ट : बॉबी पवार
Share on whatsapp