logo

देहरादून पुलिस ने 2 करोड़ की ड्रग्स के साथ तीन तस्करों को किया गिरफ्तार

खबर शेयर करें -

देहरादून के प्रेमनगर पुलिस ने करोड़ों रुपए की हाईप्रोफाइल ड्रग्स के साथ कोबरा गैंग के 3 नशा तस्करों को नंदा की चौकी बिधोली रोड से गिरफ्तार किया है। आरोपियों के कब्जे से हाई प्रोफाइल ड्रग एलएसडी के 2058 ब्लॉट्स और 6 ग्राम हेरोइन बरामद की गई है। वहीं अंतर्राष्ट्रीय बाजार में ड्रग्स की कीमत 2 करोड़ 5 लाख रुपए बताई जा रही है। आरोपी एलएसडी ड्रग्स मंगवाने के लिए डार्क वेब का इस्तेमाल करते थे। बरामद एलएसडी कॉलेज स्टूडेंट और पार्टियों में सप्लाई होनी थी। बता दें कि पुलिस को कोबरा गैंग के सदस्यों द्वारा देहरादून में हाई प्रोफाइल ड्रग एलएसडी सप्लाई किए जाने की सूचना मिली थी। सूचना मिलने के बाद पुलिस ने चेकिंग अभियान चलाया इस दौरान नंदा की चौकी बिधोली रोड से 3 आरोपी रजत भाटिया, शिवम अरोड़ा निवासी सहारनपुर और कृष गिरोटी निवासी देहरादून को ड्रग्स के साथ गिरफ्तार किया गया। एसएसपी अजय सिंह ने बताया कि तीनों आरोपी एक दूसरे से एक पार्टी में मिले थे, तभी से उनकी अच्छी दोस्ती हो गई थी। इसके बाद तीनों कोबरा गैंग के संपर्क में आए और देहरादून में अलग-अलग शिक्षण संस्थानों के छात्रों और पार्टियों में एलएसडी ड्रग्स व हेरोइन की सप्लाई करने लगे। उन्होंने कहा कि आरोपी रजत भाटिया बंगलौर स्थित डीलर से डार्क वेब पर हाईप्रोफाइल ड्रग्स को ऑर्डर करके कोरियर के माध्यम से ड्रग्स मंगवाता है। कृष गिरोटी और शिवम अरोड़ा एक प्रतिष्ठित शिक्षण संस्थान के छात्र हैं। ऐसे में ये दोनों अलग-अलग शिक्षण संस्थानों के छात्रों से संपर्क कर उन्हें एलएसडी ड्रग्स और अन्य मादक पदार्थ महंगे दामों मे उपलब्ध कराते थे। एसएसपी अजय सिंह ने बताया कि पार्टियों में ड्रग्स सप्लाई का काम रजत भाटिया करता है। शिवम अरोड़ा और कृष गिरोटी अलग-अलग शिक्षण संस्थानों के छात्रों और पार्टियों में ड्रग्स सप्लाई करते थे। साथ ही एलएसडी ड्रग्स के साथ अन्य मादक पदार्थों की भी मांग होने के कारण आरोपी अपने पास हेरोइन और अन्य हाईप्रोफाइल ड्रग्स भी रखते थे। उन्होंने कहा कि आरोपियों से पूछताछ में उनके द्वारा कुछ बड़े एलएसडी डीलर के संबंधों के बारे में जानकारी मिली है। जिनको चिन्हित कर अग्रिम कार्रवाई की जा रही है। बहरहाल थाना प्रेमनगर में तीनों आरोपियों के खिलाफ एनडीपीएस एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया है।

यह भी पढ़ें 👉  झूठा मुकदमा दर्ज कराने पर न्यायालय ने पूर्व मुख्य कृषि अधिकारी बागेश्वर पर लगाया दो लाख का जुर्माना
Share on whatsapp